मत पूछो मेरे सबर का इन्तेहाँ कान्हा तक है, तू सितम करले तेरी ताकत जहाँ तक है, वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी, हमें तो देखने है, तू जालिम कहाँ तक है.

मत पूछो मेरे सबर का इन्तेहाँ कान्हा तक है, तू सितम करले तेरी ताकत जहाँ तक है, वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी, हमें तो देखने है, तू जालिम कहाँ तक है.:
Directly Go To:
Share this Status Message
Share this Status Message

मत पूछो मेरे सबर का इन्तेहाँ कान्हा तक है, तू सितम करले तेरी ताकत जहाँ तक है, वफ़ा की उम्मीद जिन्हें होगी, उन्हें होगी, हमें तो देखने है, तू जालिम कहाँ तक है. – लव स्टेटस इन हिन्दी

Leave a Reply