वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी.. वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे ।

वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी.. वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे ।:
Directly Go To:
Share this Status Message
Share this Status Message

वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी.. वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे । – Attitude Status in Hindi for FB, Whatsapp

Leave a Reply